Skip to main content

वेबसाइट विज़िटर

टीएल; डीआर

वेबसाइट विज़िटर (या संक्षेप में विज़िटर) वे लोग हैं जो किसी वेबसाइट के एक या अधिक पृष्ठ देखते हैं। वेबसाइट विज़िटर की संख्या वेबसाइट की समग्र सफलता को निर्धारित कर सकती है, और इस संख्या को SEO और कई अन्य मार्केटिंग प्रक्रियाओं के माध्यम से बढ़ाया जा सकता है।

वेबसाइट विज़िटर्स के बारे में

वेबसाइट विज़िटर वह व्यक्ति होता है जो किसी वेबसाइट में प्रवेश करता/देखता है, चाहे कितने भी पृष्ठ हों।

वेब एनालिटिक्स टूल जैसे विज़िटर एनालिटिक्स, विज़िटर की संख्या और उनके प्रकार की निगरानी करते हैं। विज़िटर एनालिटिक्स विज़िटर मेनू में, उपयोगकर्ता निम्न जानकारी तक पहुंचने में सक्षम होते हैं:

  • नवीनतम आगंतुकों की सूची उनके प्रकार (नए, लौटने वाले और रूपांतरण आगंतुक) और उनके बारे में अन्य प्रासंगिक जानकारी के साथ
  • घंटे और दिन के अनुसार आगंतुकों की संख्या
  • आगंतुक मानचित्र और स्थान

विज़िटर एनालिटिक्स अवलोकन में विज़िटर के बारे में निम्नलिखित जानकारी प्रदर्शित होती है:

  • आगंतुकों
  • अद्वितीय आगंतुक
  • लाइव आगंतुकों का नक्शा
  • 6 नवीनतम आगंतुक
  • देश के अनुसार आगंतुकों का नक्शा

यह सारी जानकारी विज़िटर एनालिटिक्स डैशबोर्ड पर अधिक विवरण में देखी जा सकती है।

वेबसाइट विज़िटर की गणना कैसे की जाती है?

वेबसाइट विज़िटर गिनने की प्रक्रिया निम्नलिखित है: जब कोई व्यक्ति किसी वेबसाइट पर जाता है, तो उसका कंप्यूटर, स्मार्टफोन या अन्य प्रकार के उपकरण सर्वर के साथ सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हैं। प्रत्येक वेबपेज कई फाइलों से बना होता है और सर्वर इनमें से प्रत्येक फाइल को उपयोगकर्ता के ब्राउज़र (जहां वेबपेज प्रदान किया जाता है) तक पहुंचाता है। इस प्रकार के डेटा से, वेबसाइट के होमपेज और अन्य सभी वेबपेजों पर और साइट के सेगमेंट पर भी ट्रैफिक की निगरानी की जा सकती है। इस तरह, एनालिटिक्स टूल यह निर्धारित करते हैं कि प्रत्येक सेगमेंट को कितने विज़िटर प्राप्त होते हैं।

वेबसाइट विज़िटर क्यों महत्वपूर्ण हैं?

वेबसाइट विज़िटर महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि ज्यादातर मामलों में, वे वेबसाइट की सफलता की पुष्टि करते हैं। किसी वेबसाइट पर जितने अधिक विज़िटर होंगे, ब्रांड जागरूकता और रूपांतरण की संभावना उतनी ही अधिक होगी।

वेबसाइट विज़िटर की संख्या सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन, ऑनलाइन विज्ञापन, सोशल मीडिया पोस्टिंग, गेस्ट ब्लॉगिंग और कई अन्य तरीकों से बढ़ाई जा सकती है।